भारत

कर्नाटक में स्थिति गंभीर, हिंदुत्ववादी मुसलमानों को निशाना बनाकर हमले कर रहें हैं: आफरीन फातिमा

आफरीन फातिमा के अनुसार, कॉलेज प्रशासन मुस्लिम छात्राओं को कक्षाओं से बाहर निकाल देते हैं

कर्नाटक में हिजाब को लेकर चल रहा विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा हैं. आए दिन मुस्लिमों को निशाना बनाकर हमले किए जा रहें हैं।

सोशल एक्टिविस्ट आफरीन फातिमा का कहना हैं कि “कर्नाटक में स्थिति बहुत गंभीर है. हिंदुत्ववादी समूह मुस्लिम इलाकों में दंगा कर रहे हैं, मुसलमानों के घरों और दुकानों पर पथराव कर रहे हैं. हिजाब विवाद पर फैसला सुनाए जाने से पहले लोगों को धमकी दी जा रही है।”

कॉलेज मुस्लिम महिलाओं को परेशान करने और उन्हें बाहर निकालने के लिए हाईकोर्ट के अंतरिम आदेश का दुरुपयोग कर रहे हैं. कॉलेज विकास समितियां आधिकारिक तौर पर हिजाब पर प्रतिबंध लगा रही हैं। परीक्षाएं अगले महीने निर्धारित हैं। मुस्लिम छात्रों को बहिष्कृत और अलग थलग किया जा रहा है।

पुलिस मुस्लिम समुदाय को अपराधी बनाने के अलावा कुछ नहीं कर रही है। जो लड़कियां हिजाब प्रतिबंध के खिलाफ अदालतों और सड़कों पर लड़ रही हैं, उनके साथ अपराधियों जैसा व्यवहार किया जा रहा है. उनकी निजता का हनन किया जा रहा है, परिवार पर हमला किया जा रहा है और विरोध करने पर पुलिस उनके खिलाफ कार्रवाई कर रही है।

मुस्लिम महिला याचिकाकर्ताओं के साथ जो किया जा रहा है वह एक बहुत बड़ी अपराधीकरण प्रक्रिया की प्रस्तावना है। मुस्लिम महिला और उसकी मौजूदगी पर सवालिया निशान लगाया जा रहा है। उसके उत्पीड़न के प्रति उदासीनता को सामान्य किया जा रहा है।

पूरी घटना कभी क्षेत्रीय मुद्दा नहीं रही। भारत में कहीं भी मुसलमानों पर हमले अपने आप में एक पैटर्न और एक बहुत बड़ी साजिश है जो फिर हर जगह मुसलमानों पर फैलाई जाती है। ये घृणित प्रचार एक राज्य में निर्मित होते हैं और बाकी को निर्यात किए जाते हैं।

कर्नाटक में जो हो रहा है, उसकी गंभीरता को लोग नहीं समझ रहे हैं। पूरे देश में सार्वजनिक स्थानों से मुस्लिम महिलाओं का सामूहिक बहिष्कार होने जा रहा है। स्थिति बहुत गंभीर है और कार्रवाई की मांग करती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button