भारत

बेतिया: प्रशासन और हिंदुत्ववादियों ने मिलकर मस्जिद और ईदगाह को शहीद किया

सड़क बनाने के नाम पर प्रशासन ने ईदगाह का कुछ हिस्से तोड़ा लेकिन हिंदुत्ववादियों ने ईदगाह के पूरे हिस्से को JCB से शहीद कर दिया

हिंदुस्तान में मुसलमानों के धार्मिक स्थलों से नफ़रत का यह आलम हैं कि सड़क बनाने के नाम पर भी उनको शहीद कर दिया जाता हैं।

बिहार के बेतिया में हिंदुस्तान – नेपाल सड़क की मरम्मत और चौड़ीकरण के नाम पर प्रशासन ने हिंदुत्ववादियों के साथ मिलकर मुस्लिम समाज के धार्मिक स्थल ईदगाह और मस्जिद को शहीद कर दिया।

बेतिया के मिनाटांड ब्लाक के इनरवा बाजार में सड़क चौड़ीकरण के काम में बाधा बन रहें अतिक्रमण को हटाने के लिए पुलिस प्रशासन ने लोगों को नोटिस दे दिया था. जिसके तहत 11 जनवरी को SDM नरकटिया गंज धनंजय कुमार के नेतृत्व में भारी पुलिस बल तैनात किया गया तथा अतिक्रमण हटाने का काम शुरू किया गया।

अतिक्रमण हटाने के दौरान बीच में एक ईदगाह भी सड़क चौड़ीकरण के काम में बाधा बन रहीं थीं. जिसपर SDM ने अक्लमंदी से काम लेते हुए उसके भी 20 फिट के हिस्से को तोड़ने का हुक्म दिया. जिसपर मुकामी मुसलमानों ने भी कोई एतराज़ नहीं जताया तथा प्रशासन को उसे तोड़ने दिया।

उसके बाद प्रशासन आगे के अतिक्रमण तोड़ने चला गया तथा SDM भी वहा से अपने दफ्तर चले गए।

थोड़ी देर बाद CO और पुलिस प्रशासन फिर से ईदगाह पहुंचा तथा ईदगाह को फिर से तोड़ने के लिए पेमाइश (नापना) शुरु कर दिया. जिसपर मुसलमानों ने विरोध जताया तथा कहा जहां तक निशान लगाया था वहां तक तोड़ने पर किसी ने कुछ नहीं किया बल्कि प्रशासन की पूरी सहायता की, अब आप और ज़मीन क्यों तोड़ रहें हों?

मुसलमानों के विरोध देखते हुए पुलिस ने लाठी चार्ज कर दी. तथा मुसलमानों को तितर-बितर कर दिया. जिसके बाद प्रशासन ने फिर से ईदगाह की दीवार को तोड़ दिया।

इसी दौरान ईदगाह के पास मौजूद हिंदुत्ववादियों ने पत्थरबाजी कर दी. जिसके बाद वहा भगदड़ मच गई. और पुलिस ने फिर से लाठी चार्ज कर दिया. जिसके बाद मुसलमानों ने भी पत्थरबाजी शुरु कर दी. इसी दौरान पुलिस हिंदुतावदियो को भड़काने लगें तथा पुलिसकर्मी भी उनके साथ मुसलमानों के ऊपर पत्थरबाजी करने लगें।

इसी घटना के दौरान JCB ड्राइवर अपनी जान बचाने के लिए JCB को वहीं छोड़कर भाग गया. जिसका फायदा उठाते हुए भीकू यादव और कृष्णा यादव ने मिलकर JCB के ज़रिए ईदगाह को तोड़ना शुरु कर दिया. तथा ईदगाह की गुंबद को भी तोड़ दिया।

ईदगाह को तोड़ता देख मुसलमानों ने फिर से पत्थरबाजी शुरु कर दी. मामला बढ़ता देख पुलिसकर्मी भी वहा से भाग गए।

12 जनवरी को फिर से पुलिस फोर्स घटना स्थल पर पहुंची तथा बची हुई दीवार को भी तोड़ दिया. इसके बाद प्रशासन ने इनरवा बाजार की मस्जिद के गुंबद, कमरे और वुजू खाना (स्नान ग्रह) को तोड़ दिया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button