भारत

दादरी: प्रशासन ने मुस्लिम इलाक़े को जोड़ने वाले एक मात्र रास्ते को बंद किया, सैकड़ों मुसलमानों घरों में कैद

लोगों का आरोप हैं कि यह पहला मौका नहीं है जब पुलिस ने इस रास्ते को बंद किया हैं. इससे पहले भी कई बार इस रास्ते को बंद किया गया है, लेकिन इस बार मुसलमानों को घरों में कैद करके इस कार्यवाही को अंजाम दिया गया हैं

उत्तर प्रदेश में जब से भारतीय जनता पार्टी (BJP) की सरकार बनी हैं तब से मुसलमानों को अलग थलग करने की साज़िश रची जा रहीं हैं।

मामला दादरी का हैं जहां पर पिछले साल 28 दिसंबर को प्रशासन ने मुस्लिम इलाक़े को जोड़ने वाले एक मात्र रास्ते को बंद कर दिया. इस रास्ते के बंद होने से मुस्लिम समुदाय के लोगों को काफ़ी परेशानी हो रहीं है।

इस रास्ते का उपयोग मुख्य रूप से मुस्लिम समुदाय के लोग करते थे, क्योंकि मार्ग के पास बड़ी संख्या में मुस्लिम आबादी रहती है. रास्ता बंद होने से मुस्लिम समुदाय के लोग घरों में कैद हो चुके हैं।

स्थानीय निवासियों ने मुस्लिम नाऊ को जानकारी देते हुए कहा कि, यह गली मुख्य मार्गों में से एक थी जो नई आबादी क्षेत्र को दादरी के मुख्य बड़े बाजार और रेलवे रोड से जोड़ती थीं।

28 दिसंबर की शाम को पुलिस ने बहुसंख्यक समुदाय के लोगों के इशारे पर जबरन इस सड़क को बंद करवा दिया. यह पहला मौका नहीं है जब पुलिस ने इस रास्ते को बंद किया हैं. इससे पहले भी कई बार इस रास्ते को बंद किया गया है, लेकिन इस बार मुसलमानों को घरों में कैद करके इस कार्यवाही को अंजाम दिया गया हैं।

मुस्लिम मिरर का कहना हैं कि “क्या बीजेपी सरकार में भारत तेजी से मुसलमानों के लिए ‘फिलिस्तीन’ बनता जा रहा है? उत्तर प्रदेश के दादरी में पुलिस द्वारा मुस्लिम गांव को बाकी इलाकों से जोड़ने वाले एकमात्र रास्ते पर दीवार बनवा दी जाती है, जिससे सैकड़ों लोग अपने घरों में कैद हो गाए हैं।”

पुलीस का कहना हैं कि, यह ज़मीन समीर भाटी की निजी ज़मीन हैं. लेकिन एक ख़ास समुदाय के लोग इस रास्ते के बंद होने का विरोध कर रहें हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button