भारत

लखनऊ विश्वविधालय की मुस्लिम छात्रा गज़ाला ने संस्कृत में जीते 5 मेडल, दिहाड़ी मज़दूर की बेटी हैं

गज़ाला की पांच भाषाओं अंग्रेजी, हिंदी, उर्दू, अरबी और संस्कृत में बहुत अच्छी पकड़ हैं

जिस संस्कृत को हिंदू समुदाय के अच्छे अच्छे लोग नहीं पढ़ पाते हैं उस संस्कृत में मुस्लिम छात्रा ने 5 मेडल जीतकर इतिहास रच दिया।

लखनऊ विश्वविधालय की गज़ाला ने मास्टर ऑफ आर्ट्स (एमए) में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए पांच मेडल अपने नाम किए हैं।

गज़ाला ने इन मेडल को जीतने का श्रेय अपने भाइयों को दिया जिन्होंने अपनी पढ़ाई छोड़कर अपनी बहन को पढ़ने में मदद की।

गज़ाला के पिता दिहाड़ी मजदूर थे जब वह 10 वीं कक्षा में थी तब उनका इंतकाल हो गया था. गज़ाला का जीवन काफ़ी संघर्ष भरा था।

गजाला अपने परिवार के साथ एक कमरे के घर में रहती है. वह रोज सुबह 5 बजे उठकर नमाज़ पढ़ती हैं, जिसके बाद घर के सारे काम करती हैं और दिन में लगभग 6-7 घंटे संस्कृत की पढ़ाई करती हैं।

गज़ाला लखनऊ विश्वविद्यालय के सांस्कृतिक कार्यक्रमों के दौरान संस्कृत के श्लोक, गायत्री मंत्र और सरस्वती वंदना का पाठ करती हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button