भारत

कानपुर: राष्ट्रपति के पहुंचने पर रोका गया ट्रैफिक, एम्बुलेंस फंसने से 50 साल की महिला की मौत

ये कितनी बड़ी विडंबना है कि इस देश का प्रथम नागरिक महामहिम राष्ट्रपति जिसके ज़िम्मे में ये जिम्मेदारी है कि वे देश की हर नागरिक की रक्षा करने वाली सरकार पर नज़र रखे उसी महामहिम के कारण अगर किसी नागरिक की जान चली जाए।

महामहिम राष्ट्रपति के कानपुर पहुंचने पर काफी देर तक प्रशासन ने ट्रैफिक को रोके रखा। इसी ट्रैफिक में एक एम्बुलेंस भी फंस गया। ट्रैफिक में काफी देर तक फंसे रहने के कारण एम्बुलेंस से हॉस्पिटल जा रही एक 50 साल की महिला की मौत हो गयी।

बताया जा रहा है कि महिला का नाम वंदना मिश्रा है जो कि भारतीय प्रद्योगिकी संघ के कानपुर यूनिट में महिला विंग की अध्यक्ष थी। वे कोरोना से बुरी तरह संक्रमित थी और इलाज के लिए अस्पताल जा रही थी।

कानपुर पुलिस कमिश्नर असीम अरुण ने व्यक्तिगत तौर पर मृतक वंदना मिश्रा के परिवार से माफी मांगी है।

साथ कि पुलिस कमिश्नर के ऑफिसियल ट्विटर अकाउंट से ट्वीट कर मृतक के परिवार से माफी मांगी है। पुलिस कमिशनेट ने ट्वीट करते हुए लिखा है कि,”आईआईए की अध्यक्षा बहन वंदना मिश्रा जी के निधन के लिए कानपुर नगर पुलिस और व्यक्तिगत रूप से मैं क्षमा प्रार्थी हूँ। भविष्य के लिए ये बड़ा सबक है। हम प्रण लेते हैं कि हमारी रुट व्यस्था ऐसी होगी कि न्यूनतम समय के लिए नागरिकों को रोका जाए ताकि ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति न हो”

पुलिस प्रशासन ने कार्यवाई करते हुए 4 पुलिस कर्मी, 1 सब इंस्पेक्टर और 3 हेड कांस्टेबल को निलंबित कर दिया है।

ऐसे में सवाल ये उठता है कि VVIP कल्चर के कारण गयी इस जान की भरपाई क्या माफी से या निलंबन से की जा सकती है? इस समस्या की जड़ VVIP कल्चर है। जब तक ये खत्म नहीं होगा तब तक मौत का ये सिलसिला यूँ ही चलता रहेगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button