भारत

मध्य प्रदेश: महाशिवरात्रि के दिन दलित लड़की को मंदिर में पूजा करने से रोका, लड़की बोली- अगर हमें मंदिर में नहीं जाने दिया तो हम धर्म परिर्वतन कर लेंगे

आरोपी पूजारी गिरफ्तारी के चंद घंटे बाद ही बेल पर रिहा हुआ लोगों ने मनाया जश्न

दलितों के लिए बराबरी की बात तो सब करते हैं लेकिन जब उस बराबरी को दलित समुदाय के लोग हासिल करना चाहते हैं तो उनको धक्के मार कर भगा दिया जाता हैं।

मामला मध्य प्रदेश के खरगोन ज़िले के टेमला गांव का हैं जहां पर महाशिवरात्रि के दिन दलित समुदाय की लड़की को मंदिर में पूजा करने से रोक दिया।

महाशिवरात्रि के दिन 30 वर्षीय दलित लड़की पूजा खांडे शिव मंदिर में पूजा करने के लिए घर से पूजा की थाली सजा कर निकली. जैसे ही वह मंदिर के गेट पर पहुंची तो मंदिर के पूजारी और दो अन्य महिलाओं ने लड़की का रास्ता रोक दिया तथा उसको मंदिर में नहीं जानें दिया।

इस घटना की पूरी वीडियो पूजा खांडे की चचेरी बहन ने अपने फोन में बना ली. जिसमें लड़की और मंदिर में मौजूद महिलाएं आपसे बहस कर रहीं हैं. विडियो में पूजा खांडे मध्य प्रदेश की निमाड़ी भाषा में रास्ता रोकने वाली महिलाओं से पूछ रही हैं “क्या इस मंदिर में जो भगवान बैठे हैं वह सिर्फ आपके हैं।”

पूजा खांडे का कहना हैं कि, पुजारी ने मेरा रास्ता रोक लिया और बोला हरिजन मंदिर में नहीं आ सकते. हरिजन को बाहर से ही पूजा करनी होंगी. हरिजन को पूजा का अधिकार ही नहीं हैं।

इस प्रकार की घटना सिर्फ़ हमारे ही गांव में नहीं हो रहीं हैं बल्कि आसपास के सभी गांवों में हो रहीं हैं आखिर क्यों हमको मंदिर में नहीं जाने दिया जाता हैं. अगर हमें मंदिर में नहीं जानें दिया जाए तो हमें धर्म परिर्वतन करने दिया जाए।

अखिल भारतीय बलाई महासंघ के राष्ट्रिय अध्यक्ष मनोज परमार ने इस घटना का विरोध करते हुए कहा कि, कठोरा गांव में भी यहीं होता हैं एक साल से हमारे पूरे दलित समाज का हुक्का पानी बंद कर रखा हैं. हमें पानी नही पीने देते तथा डेरी से दूध नहीं देते. अगर हमें सम्मान नहीं मिल तो उग्र आंदोलन करेंगे।

एसपी सिद्धार्थ चौधरी का कहना हैं कि 1 तारीख कि घटना हैं जिसमें एक युवती को महाशिवरात्रि के दिन पूजा करने से रोकने का वीडियो वॉयरल हुआ था जैसे ही मेरे संज्ञान में आया तो पीड़ित के कहने पर पुलिस ने मंदिर के पुजारी सहित 3 लोगों पर IPC की धारा 505 (2) एवं SC/ST Act की तीन धाराओं के तहत FIR दर्ज़ कर ली हैं।

आपको बता दे कि इस घटना के बाद मंदिर के पूजारी को गिरफ्तार किया गया लेकिन गिरफ्तारी के चंद घंटे बाद ही उनको बेल मिल गईं. बेल के बाद न्यायालय परिसर में मौजूद भीड़ ने जश्न मनाते हुए हर हर महादेव के नारे लगाएं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button