भारत

हरियाणा: फरीदाबाद के युवक फिरोज़ सैफी की संदिग्ध हालत में मौत, परिवार ने फिरोज़ के दोस्त अनमोल पर लगाया हत्या का आरोप

फिरोज़ और अनमोल एक साथ घर से निकले थे, फिरोज़ की मौत के बाद से अनमोल फरार हैं

जांच से बचने के लिए पुलिस अब मुसलमानों की हत्या को भी एक्सीडेंट बताने लगीं हैं. हरियाणा में ऐसी ही घटना सामने आई हैं. जहां परिवार ने बेटे की मौत को हत्या बताया हैं तो वहीं पुलिस एक्सीडेंट बता रहीं हैं।

फ़रीदाबाद के जीवन नगर पार्ट-2 का रहने वाला मुस्लिम युवक फिरोज़ 1 अक्टूबर को अपने घर वालों को बताता हैं कि अपने दोस्त अनमोल के साथ उसकी साली को लेने उत्तर प्रदेश (एटा) जाएगा। क्योंकि अनमोल की बीवी प्रेगनेंट हैं इसलिए वह घर का काम करने के लिए अपनी साली को लाएगा।

जिसके बाद 2 अक्टूबर को अनमोल और फिरोज़ मोटरसाइकिल पर सवार होकर एटा के लिए निकल जाते हैं. तथा अगले दिन यानी 3 अक्टूबर को दोनों अनमोल की साली को लेकर एटा से निकल जाते हैं।

टप्पल (यमुना एक्सप्रेस-वे) पहुंचने के बाद अचानक उनकी बाइक की चैन टूट जाती हैं. जिसके बाद फिरोज़ (चाय वाले के फोन से) अपने घर संपर्क करने की कोशिश करता हैं लेकिन उसका घर पर संपर्क नहीं हो पाता हैं।

मृतक फिरोज़ के पारिवारिक सदस्य साबिर सैफी के अनुसार “4 तारीख़ को हमे सूचना मिलती हैं कि फिरोज का एक्सीडेंट हो गया हैं. तथा उसकी मौत हो गई हैं।” लेकिन जिस वक्त फिरोज़ की मौत हुई तो उस वक्त उसके साथ न तो अनमोल था और न ही उसकी साली थी।

गंभीर हालत में फिरोज़ को पलवल के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया. वहा से डॉक्टरों ने उसको सफदरजंग हॉस्पिटल (दिल्ली) ट्रांसफर कर दिया. जहां पर 17 तारीख़ को उसकी मौत हो गई।

फिरोज़ के शरीर पर चोट के निशान देखकर डॉक्टरों का कहना था कि यह एक्सीडेंट की चोट के निशान नहीं हैं।

मृतक फिरोज़ की अम्मी का कहना हैं कि फिरोज़ का एक्सीडेंट नहीं हुआ हैं बल्कि उसको अनमोल ने मारा हैं. तथा एक्सीडेंट की रात से ही अनमोल घर से गायब हैं।

कुछ दिन बाद अनमोल की बहन फिरोज के घर आती हैं तथा उनको बताती हैं कि फिरोज का मोबाइल और चेन अनमोल के पास हैं।

मृतक फिरोज़ के पारिवारिक सदस्य साबिर सैफी ने अनमोल पर हत्या का शक जताते हुए कहा हैं कि अगर अनमोल ने हत्या नहीं की तो वह घर से फरार क्यों हैं? करीबी दोस्त होने के बाद भी वह फिरोज की अंतिम यात्रा में क्यों नहीं आया? क्यों उसने एक्सीडेंट के बाद फिरोज़ का हाल चाल नहीं लिया?

परिवार ने पुलिस की कार्यवाही पर भी सवाल खड़े करते हुए कहा हैं कि पुलिस ने इस मामले में सिर्फ़ एक्सीडेंट की एफआईआर दर्ज़ की हैं. जबकि हमारा कहना हैं कि हत्या की एफआईआर दर्ज़ हो तथा अनमोल से पुछताछ हो।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button