भारत

हिजाब विवाद पर मौलाना अरशद मदनी ने कहा- इस्लाम में हिजाब पहनना जरूरी हैं, मुस्लिम छात्राओं को हिजाब पहनने से रोकना अनुच्छेद 25 का उल्लंघन हैं

मौलाना अरशद मदनी ने कहा, धर्म के नाम पर किसी भी प्रकार की हिंसा बर्दास्त नहीं होगी

हिजाब को लेकर चल रहें विवाद पर जमीअत उलमा ए हिंद के राष्ट्रीय अध्यक्ष मौलाना अरशद मदनी ने इस्लाम में हिजाब को जरूरी बताया।

जमीयत उलमा ए हिंद की कार्य समिति की बैठक में मौलाना अरशद मदनी ने कहा, इस्लाम में हिजाब पहनना जरूरी हैं, अगर कोई मुस्लिम छात्राओं को हिजाब पहनने से रोकता हैं तो वह संविधान के अनुच्छेद 25 का उल्लंघन कर रहा हैं।

कुछ लोग गलत अफ़वाह फैला रहें हैं कि इस्लाम में हिजाब का जिक्र नहीं हैं बल्कि कुरान और हदीस में हिजाब का जिक्र हैं तथा शरीयत के मुताबिक हिजाब पहनना जरूरी है।

मौलाना अरशद मदनी ने कहा, धर्म के नाम पर किसी भी प्रकार की हिंसा बर्दास्त नहीं होगी. धर्म के नाम पर नफरत फैलाने वालों का हम सबको विरोध करना चाहिए।

हमारे देश में नफ़रत फैलाने वालों से ज्यादा प्यार और मोहब्बत करने वाले लोग हैं जो इस देश में भाई चारे के साथ रहना चाहते हैं इसलिए हमें निराश होने की जरूरत नहीं हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button