भारतराजनीति

एक दिन में सिर्फ 11.5 लाख लोगों को लगा वैक्सीन, कापड़ी बोले,”मोदी का ध्यान सिर्फ अपने 15 एकड़ के महल पर है”

कोरोना महामारी का दूसरा वेव अब खतरनाक रूप ले चुका है। इस बार कोरोना वायरस संक्रमण बहुत तेज़ी से फैल रहा है। रोज़ 4 लाख से अधिक कोरोना के मरीज़ मिल रहे हैं। ये तो केवल आधिकारिक आंकड़ा है। वास्तव में स्थिति काफी डरावनी है।

अस्पतालों में जगह नहीं है, ऑक्सीजन नहीं है, बेड भी नहीं है। ऐसी भयानक प्रस्तिथि में भी सरकार अपनी प्राथमिकता तय नहीं कर पा रही है। कोरोना महामारी के बीच केंद्र की मोदी सरकार ने तमाम नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए बंगाल और उत्तर प्रदेश में चुनाव कराए और खुद प्रधानमंत्री इन चुनावों में लाखों की भीड़ को संबोधित भी किया।

मौजूद परिस्तिथि से निपटने के लिए विशेषज्ञों का कहना है कि व्यापक स्तर पर कोरोना टीकाकरण ड्राइव चलाया जाना चाहिए। मौजूदा समय में तेज रफ्तार से टीकाकरण ही कोरोना महामारी से निजात दिला सकता है।

लेकिन सरकार लोगों को टीका लगाने में भी कोई खास दिलचस्पी नहीं दिखा रही है। भारत में कोरोना टीकाकरण का रफ्तार बहुत धीमा है।

कल यानि 4 अप्रैल को मात्र 14.5 लाख लोगों को कोरोना का टीका लगाया गया जबकि एक दिन में कमसे कम 50 लाख लोगों को वैक्सीन दी जानी थी।
सूत्रों की माने तो कोरोना वैक्सीन की भारी कमी है जिसके कारण इतने कम लोगों को वैक्सीन लग पाया है।

ऐसे में तमाम लोगों ने कोरोना टीकाकरण की धीमी रफ्तार पर सरकार पर जमकर निशाना साधा है और सरकार को इसके लिए ज़िम्मेदार ठहराया है।

फ़िल्म निर्देशक विनोद कापड़ी ने ट्वीट कर कहा है कि “टीकाकरण की रफ्तार बेहद खतरनाक और जानलेवा है। वैक्सीन की कमी के कारण 4 मई को केवल 11.5 लाख लोगों को वैक्सीन दिया गया है जबकि एक दिन में 50 लाख लोगों को वैक्सीन दी जानी थी।
साथ ही उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से सवाल करते हुए लिखा है कि “समझ नहीं आरहा कि देश के प्रधानमंत्री की नींद कितने और हज़ार मौत के बाद टूटेगी?

एक अन्य ट्वीट में उन्हीने लिखा है कि “एक दिन में सिर्फ़ 11.5 लाख vaccine की रफ़्तार को देखते हुए लग रहा है कि नरेन्द्र मोदी का ध्यान रोज हज़ारों मौत के बजाय सिर्फ़ अपने 15 एकड़ के महल पर है”

आपको बता दें कि एक तरफ कोरोना के कारण सभी कार्य बंद हैं वहीं दूसरी ओर प्रधानमंत्री के सेंट्रल विस्ता का कार्य युद्ध स्तर पर जारी है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button